Thu. May 23rd, 2024
Kanjhawala Death Case : कंझावला मौत मामले में निर्णायक फैसला - सभी चार आरोपियों पर हत्या का मुकदमा चलाया जाएगा
Kanjhawala Death Case : कंझावला मौत मामले में निर्णायक फैसला – सभी चार आरोपियों पर हत्या का मुकदमा चलाया जाएगा

Kanjhawala Death Case : नई दिल्ली, संवाददाता – कंझावला हिट-एंड-ड्रैग मामले से संबंधित एक महत्वपूर्ण घटनाक्रम में, दिल्ली की एक अदालत ने गुरुवार को एक महत्वपूर्ण फैसला सुनाया, जिसमें मामले में आरोपी सभी चार व्यक्तियों के लिए हत्या का मुकदमा चलाना अनिवार्य कर दिया गया। यह घटना, जो 1 जनवरी, 2022 को हुई, इसमें कथित तौर पर आरोपी अंजलि की कार से टकराया और उसे काफी दूरी तक घसीटता रहा, जिससे उसकी असामयिक मृत्यु हो गई।

यह दर्दनाक घटना 31 दिसंबर, 2022 की रात को सुल्तानपुरी इलाके में हुई, जहां एक कार की चपेट में आने और 13 किलोमीटर तक घसीटे जाने के बाद एक महिला की दर्दनाक मौत हो गई। चौंकाने वाली बात यह है कि वाहन में बैठे लोगों को पूरी तरह से पता था कि अंजलि उसके नीचे फंसी हुई है, लेकिन रुकने से पहले वे लगभग 600 मीटर तक गाड़ी चलाते रहे।

रोहिणी अदालत में 800 पन्नों की एक विस्तृत चार्जशीट दायर की गई, जिसमें अंजलि की दोस्त निधि के साथ-साथ विभिन्न गवाहों और अन्य संबंधित पक्षों के बयान शामिल थे। विशेष रूप से, इस जटिल मामले में लगभग 120 व्यक्तियों को गवाह के रूप में सूचीबद्ध किया गया था।

नवीनतम रिपोर्टों के अनुसार, दिल्ली की रोहिणी अदालत ने भारतीय दंड संहिता (आईपीसी) की संबंधित धाराओं, अर्थात् धारा 302 (हत्या), 201 (सबूत को नष्ट करना) के तहत मनोज मित्तल, अमित खन्ना, कृष्णा और मिथुन के खिलाफ आरोप लगाए हैं। 212 (अपराधी को शरण देना), और 120बी (आपराधिक साजिश)।

इस बीच, अन्य आरोपियों, दीपक, आशुतोष और अंकुश पर आईपीसी की धारा 201, 212, 182 और 34 के तहत आरोप लगाए गए हैं। इसके अलावा, उन्हें आईपीसी की धारा 120 बी के आरोप से बरी कर दिया गया है। इसके अलावा, अमित पर लापरवाही से गाड़ी चलाने का अतिरिक्त आरोप भी है। इस मामले की आगामी अदालती सुनवाई 14 अगस्त को होनी है।

चारों आरोपियों के खिलाफ हत्या का मुकदमा चलाने का अदालत का फैसला दिल दहला देने वाले कंझावला मौत मामले में न्याय की उम्मीद की किरण जगाता है, जिसका दिल्ली शहर पर गहरा प्रभाव पड़ा था। परीक्षण शुरू होने के साथ, यह अनुमान लगाया गया है कि घटना के आसपास की परिस्थितियों के बारे में अधिक जानकारी सामने आएगी, और जिम्मेदार लोगों को उनके कार्यों के लिए जवाबदेह ठहराया जाएगा।”

By Amit

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *